Shravana Putrada Ekadashi Vrat Katha 2022 | श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत कथा

Shravana Putrada Ekadashi Vrat Katha – पुत्रदा एकादशी व्रत श्रावण माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी को किया जाता है। इस व्रत को करने से संतान की प्राप्ति होती है। आए जानते है श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत की विधि, कथा और इसके महत्व के बारे में।

श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत विधि | Shravana Putrada Ekadashi Vrat Vidhi

पुत्रदा एकादशी के दिन सुबह स्नानादि से शुद्ध होकर उपवास करना चाहिए। भगवान विष्णु और विशेषकर विष्णु जी के बाल गोपाल रूप की पूजा करनी चाहिए।

श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत कथा | Shravana Putrada Ekadashi Vrat Katha

प्राचीन समय में एक नगर में महिजीत नाम के राजा राज करते थे। उनके कोई संतान न थी इसके कारण एक दिन वह बहुत दुरखी हुए । मंत्रियों और दरबारियों को राजा का यह दुख देखा न गया। तो उन्होंने आपस में विचार विमर्श कर राजा को लोमश ऋषि के पास लेकर गए। यहां मंत्रियों ने ऋषि से राजा के निःसंतान होने का कारण औरउसका उपाय पूछा। महाज्ञानी लोमश ऋषि ने बताया कि पूर्व जन्म में राजा को एक बार एकादरशी के दिन भूखा प्यासा रहना पड़ा था। 

राजा जब जंगल भटक रहे थे तभी उन्हें जोर की प्यास लगी। पानी की तलाश मैं एक सरोवर पर पहुंचे तो एक ब्यायी गाय वहां पानी पीने आ गई। लेकिन राजा ने गाय को भगा दिया और स्वयं की प्यास बुझाई। इस प्रकार राजा अनजाने में एकादशी का व्रत हो गया और गाय को प्यासा भगाने के कारण इस जन्म में उसे निःसंतान रहना पड़ रहा है। इस मंत्रियों ने ऋषि से हाथ जोड़कर प्रार्थना की वह इसका कोई उपाय बताएं। 

लोमश ऋषि ने मंत्रियों से कहा कि अगर आप लोग चाहते हैं कि राजा को संतान की प्राप्ति हो तो वे लोग श्रावण शुक्ल एकादशी व्रत रखें और द्वादशी के दिन अपना व्रत राजा को दान कर दें। इसके बाद मंत्रियों ने ऋषि के बताए उपाय के अनुसार, एकादशी का व्रत किया और द्वादशी को राजा को व्रत दान किया। इससे राजा को एक सुंदर संतान की प्राप्ति हुई। तभी इसे इस एकदशी का नाम पुत्रदा एकदशी पड़ गया।

श्रावण पुत्रदा एकादशी का महत्व । Shravana Putrada Ekadashi Ka Mahatva

श्रावण पुत्रदा एकादशी का व्रत करने से संतान की प्राप्ति होती है।

FAQs About Shravana Putrada Ekadashi Vrat Katha

Q1. श्रावण पुत्रदा एकादशी कब है 2022?

8 अगस्त, सोमवार 2022

Q2. श्रावण पुत्रदा एकादशी के व्रत में क्या खाना चाहिए?

श्रावण पुत्रदा एकादशी के व्रत में लहसुन, प्याज आदि नहीं खाना चाहिए।

Q3. श्रावण पुत्रदा एकादशी का महत्व क्या है?

श्रावण पुत्रदा एकादशी का व्रत करने से संतान की प्राप्ति होती है।

Leave a Comment